IRR full form in hindi – जानिए इंश्योरेंस में IRR क्या हैं और कैसे करे कैलकुलेट

इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना आपके भविष्य को सुरक्षित रखने का एक महत्वपूर्ण कदम है। इंश्योरेंस में कई तरह की टर्म्स और रेश्यो होती हैं जिन्हें समझना हमारे लिए जरूरी होता है। उन्ही में से एक महत्वपूर्ण टर्म है ’IRR’। यह टर्म इन्वेस्टमेंट और इंश्योरेंस दोनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस आर्टिकल ’IRR full form in hindi’ में हम IRR क्या है, यह इंश्योरेंस में कैसे काम करता है, और इसके महत्व को विस्तार से समझेंगे।

IRR full form in hindi

IRR क्या होता है – IRR full form in hindi

IRR का मतलब होता है: Internal rate of return

इंश्योरेंस और निवेश की दुनिया में IRR एक महत्वपूर्ण टर्म है। ये एक ऐसा फाइनेंशियल मेट्रिक है जो निवेश पर होने वाले रिटर्न की दर को मापता है। इसे उस डिस्काउंट रेट के रूप में भी समझा जा सकता है जिस पर निवेश की नेट प्रेजेंट वैल्यू (NPV) जीरो हो जाती है।

इंश्योरेंस पॉलिसी में, IRR का उपयोग उस रिटर्न की कैलकुलेशन के लिए किया जाता है जो पॉलिसी होल्डर को पॉलिसी में किए गए प्रीमियम भुगतानों पर मिलता है। ये खासकर उन पॉलिसी में महत्वपूर्ण होता है जिनमें इन्वेस्टमेंट का एक हिस्सा शामिल होता है, जैसे कि यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान्स (ULIPs)।

जब भी आप कोई इंश्योरेंस पॉलिसी लेंते है, खासकर इन्वेस्टमेंट से जुड़ी हुई पॉलिसी, तो IRR के बारे में जरूर पूछें और इसकी कैलकुलेशन करें ताकि आप अपनी इन्वेस्टमेंट की असली वैल्यू को समझ सकें। ये आपको अपने इन्वेस्टमेंट के फैसलों को और बेहतर और एक अच्छा फाइनेंशियल प्लान बनाने में मदद करता है।

IRR कैसे काम करता है – IRR kaise kaam karta hai

इंश्योरेंस में IRR का काम बहुत ही अहम होता है। जितना पैसा आप इंश्योरेंस पॉलिसी में लगाते हैं, उस पर मिलने वाला कुल रिटर्न जब उसी इन्वेस्टमेंट अमाउंट के बराबर हो जाए, तब वो दर IRR कहलाती है।

इंश्योरेंस पॉलिसी में IRR की कैलकुलेशन करने से पहले और बाद की रिटर्न्स को समझना जरूरी है। ये आपको ये अंदाजा देता है कि आपका पैसा कितना ग्रो कर रहा है और आपको फ्यूचर में कितना बेनिफिट मिल सकता है। इससे आप अलग-अलग पॉलिसी की तुलना कर सकते हैं और बेस्ट ऑप्शन का चुनाव कर सकते हैं।

इसके अलावा, IRR की मदद से आप ये भी जान सकते हैं कि आपकी पॉलिसी कितनी अच्छी है। अगर IRR की दर ज्यादा है, तो इसका मतलब है कि आपकी पॉलिसी अच्छा रिटर्न दे रही है लेकिन अगर IRR कम है, तो आपको अपनी पॉलिसी की जांच करने की जरूरत है।

IRR की कैलकुलेशन करते समय आपको विभिन्न फैक्टर्स को ध्यान में रखना चाहिए, जैसे कि इंश्योरेंस पॉलिसी का टेन्योर, प्रीमियम की राशि और रिटर्न्स की अवधि। ये सभी फैक्टर्स IRR की कैलकुलेशन को प्रभावित करते हैं।

IRR कहां इस्तेमाल होता है – IRR kahan istemaal hota hai

  • IRR एक फाइनेंशियल मेट्रिक है जो इन्वेस्टमेंट के रिटर्न्स को मापने के लिए उपयोगी होता है। यह ना केवल इंश्योरेंस बल्कि अन्य फाइनेंशियल प्रोडक्ट और प्रोजेक्ट में भी उपयोगी होता है।

  • इंश्योरेंस में, IRR का इस्तेमाल पॉलिसी होल्डर को यह समझाने के लिए किया जाता है कि उनके प्रीमियम पेमेंट पर उन्हें कितना रिटर्न मिल रहा है। यह उन्हें अपनी पॉलिसी की वैल्यू को बेहतर तरीके से समझने में मदद करता है।

  • कॉर्पोरेट फाइनेंस में, IRR का इस्तेमाल कंपनियों द्वारा नए प्रोजेक्ट या इन्वेस्टमेंट की प्रॉफिटेबिलिटी को आंकने के लिए किया जाता है। अगर IRR उनके टार्गेट रिटर्न रेट से अधिक है, तो प्रोजेक्ट या इन्वेस्टमेंट को फायदेमंद माना जाता है।

  • पर्सनल फाइनेंस में, IRR का इस्तेमाल  इन्वेस्टर्स द्वारा अपने पोर्टफोलियो को परफॉर्मेंस को मापने के लिए किया जाता है। यह उन्हें अपने इन्वेस्टमेंट की तुलना करने और बेहतर निर्णय लेने में मदद करता है।

IRR को कैसे करें कैलकुलेट – IRR ko kaise karen calculate

इंश्योरेंस में IRR को कैलकुलेट करने के लिए आपको नीचे दिए स्टेप फॉलो करने पड़ते है:

कैश फ्लोज़ की पहचान करें: सबसे पहले, आपको पॉलिसी के दौरान होने वाले सभी कैश फ्लोज़ की पहचान करनी होगी, जैसे कि प्रीमियम भुगतान और पॉलिसी मैच्योर होने पर मिलने वाले रिटर्न।

 हर कैश फ्लो के लिए टाइम पीरियड निर्धारित करें: हर एक कैश फ्लो के लिए उसका टाइम पीरियड को निर्धारित करें, जैसे कि प्रीमियम कब भरा गया और रिटर्न कब प्राप्त हुआ।

NPV की कैलकुलेशन करें: एक अनुमानित डिस्काउंट रेट का इस्तेमाल करके NPV की कैलकुलेशन करें। NPV वह अमाउंट है जो भविष्य के सभी कैश फ्लोज़ को वर्तमान में लाने के बाद की वैल्यू होती है।

IRR की गणना करें: NPV को जीरो करने वाले डिस्काउंट रेट को खोजें। यही आपका IRR होगा। इसके लिए आपको ट्रायल एंड एरर मेथड या फाइनेंशियल कैलकुलेटर का इस्तेमाल करना पड़ सकता है।

एनालाइज करें: IRR की कैलकुलेशन के बाद, इसकी अन्य इन्वेस्टमेंट ऑप्शन के IRR के साथ तुलना करें ताकि आप यह समझ सकें कि आपकी इन्वेस्टमेंट कितनी लाभदायक है।

IRR कैलकुलेशन फॉर्मूला – IRR Calculation formula 

IRR की कैलकुलेशन के लिए फॉर्मूला है:

IRR = [∑(CFn * (1 + r)n)]/∑(CFn)

यहां पर

CFn = Cash flow for period n

r = Rate of return

n = Number of cash flows

यह भी जाने : Premium Payment Term meaning in hindi – जानिए PPT क्या है और कितने तरह की होती है?

निष्कर्ष – Conclusion 

कोई भी इन्वेस्टमेंट करते समय हमारे मन में पहली बात यही आती है की इससे हमे कितनी रिटर्न मिलेगी या कितना बेनिफिट होगा। IRR एक फाइनेंशियल रेश्यो है जो हमे हमारी की जाने वाली इनवेस्टमेंट पर मिलने वाली रिटर्न को बताता है। इसकी मदद से हम अपनी एक इन्वेस्टमेंट रिटर्न की तुलना दूसरी से करके बेहतर निर्णय ले पाते है।

Liked our Content? Spread a word!

Leave a Comment