IFSC full form in Hindi – क्या होता है IFSC कोड और क्यों है जरुरी

जब भी आप एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करते हो तो आपको अकाउंट होल्डर और बैंक अकाउंट नंबर सहित एक और कोड की जरुरत पड़ती है जिसे की IFSC कोड कहते है। आपने भी IFSC कोड को अपने बैंक की पासबुक, चेक या बैंक स्टेटमेंट में जरूर देखा होगा लेकिन क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है की IFSC कोड क्यों इतनी जगह दिखाई देता है और यह किस लिए जरुरी है? आज के इस आर्टिकल “IFSC full form in Hindi” में IFSC कोड के बारे में पूरी जानकारी आपके सामने रखने की कोशिश करेंगे।

IFSC full form in hindi
Image by tonodiaz on Freepik

IFSC कोड क्या होता है – IFSC full form in Hindi

IFSC कोड का मतलब होता है: Indian Financial System Code.

हिंदी में इसका मतलब होता है: भारतीय वित्तीय प्रणाली संहिता

IFSC कोड नंबर एक 11 नंबर का alphanumeric कोड होता है जिसका इस्तेमाल पैसो को डिजिटल रूप से एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। इस का कोड मुख्य उपयोग बैंक की ब्रांच की जानकारी हासिल करने के लिए किया जाता है और यह कोड हर एक बैंक शाखा के लिए यूनिक होता है। जब कभी भी हम IMPS, NEFT या RTGS द्वारा पैसे ट्रांसफर करते है तो हमे IFSC कोड की जरुरत पड़ती है। यह कोड हमारे बैंक को बेनेफिशरी के बैंक और ब्रांच से जुडी जरुरी जानकारी देता है तांकि पैसे बिना किसी गलती के सही अकाउंट में ट्रांसफर हो पाएं।

IFSC कोड को पहली बार 1990 के साल में RBI द्वारा financial ट्रांजैक्शन की एक्यूरेसी और सिक्योरिटी को बढ़ाने के लिए प्रयोग में लाया गया था और तब से यह भारतीय बैंकिंग सिस्टम के एक अभिन्न अंग के रूप में काम कर रहा है।

IFSC कोड के भाग – IFSC code ke bhaag

IFSC कोड 11 अंको का alphanumeric कोड होता है। Alphanumeric यानि जिसमे अल्फाबेट और नंबर दोनों शामिल होते है। इसके अलग अलग भाग हमे बैंक और ब्रांच के बारे में अलग अलग जानकारी देते है। जैसे की:

  • पहले 4 डिजिट बैंक के नाम को रिप्रेजेंट करते है।
  • पांचवा करैक्टर हमेशा जीरो होता है।
  • आखिर के छह करैक्टर बैंक का ब्रांच कोड होते है।

उदाहरण के लिए: SBIN0001234

इस कोड में SBIN बैंक के नाम यानि के स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया को रिप्रेजेंट करता है। पांचवा करैक्टर जो की हमेशा 0 रहता है और लास्ट के छह करैक्टर 001234 जो की बैंक के ब्राँच नंबर को दर्शाते है।

IFSC EXAMPLE

IFSC कोड क्यों जरुरी है – IFSC code kyu jaruri hai

IFSC कोड ऑनलाइन फण्ड ट्रांसफर करने वाली सर्विसेज जैसे की NEFT, IMPS और RTGS के लिए जरुरी है। जब भी हम कोई ऐसी ट्रांजैक्शन करते है तो अकाउंट नंबर और अकाउंट की जानकारी समेत हमे IFSC कोड भी भरना पड़ता है। जब यह जानकारी हमारे बैंक के पास जाती है तो वह इसे फण्ड ट्रांसफर करने से पहले वेरीफाई करता है। IFSC कोड को वेरीफाई करने पर उसे बेनेफिशरी बैंक और ब्रांच से जुडी जरुरी जानकारी प्राप्त होती है। आगर यह जानकारी सही हो तब ही पैसे एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट के ट्रांसफर होते है। इस तरह IFSC कोड ट्रांजैक्शन की एक्यूरेसी और सिक्योरिटी में एक अहम् किरदार निभाता है।

IFSC कोड कैसे पता करे – IFSC code kaise pata karen

IFSC कोड को काफी आसानी से बैंक की पासबुक, अकाउंट स्टेटमेंट, और चेक में देखा जा सकता है। इसके इलावा आप ऑनलाइन कई सारे माध्यमों से IFSC कोड का पता लगा सकते है जैसे की:

बैंक की वेबसाइट: लगभग सभी बैंक अपनी official वेबसाइट पर अपनी सभी बैंक ब्रांच की जानकारी उपलब्ध करवाती है। आप उनकी वेबसाइट पर जाकर ब्रांच लोकेटर की मदद के IFSC कोड का पता लगा सकते है।

ऑनलाइन IFSC सर्च: कई सारी ऐसी वेबसाइट है जो की हमे बैंक नाम और ब्रांच की मदद से IFSC कोड को ढूंढ़ने में मदद करती है। ऐसी ही एक वेबसाइट है: bankifsccode.com, यहाँ जाकर आप किसी भी बैंक का IFSC कोड उसके नाम, ब्रांच या MICR कोड की मदद से जान सकते है।

कस्टमर केयर: अगर आपको कहीं और से IFSC कोड नहीं मिल पा रहा है तो आप बैंक के कस्टमर केयर को कॉल करके और उसे जरुरी जानकारी देकर इसका पता लगा सकते है।

बैंक अकाउंट नंबर द्वारा: इसके इलावा आप बैंक अकाउंट नंबर द्वारा भी IFSC कोड को जान सकते है।

बैंक अकाउंट नंबर से IFSC कोड कैसे पता करे – Bank Account number se IFSC code kaise pata karen

बैंक अकाउंट नंबर से IFSC कोड पता करने के लिए आपके पास दो चीजे होनी चाहिए:

बैंक का नाम और बैंक अकाउंट नंबर

उदाहरण के लिए बैंक का नाम है ICICI BANK और अकाउंट नंबर है: 00454123456

ऊपर दी गयी डिटेल से IFSC कोड बनाने के लिए:

  • पहले चार करैक्टर बैंक का नाम रिप्रेजेंट करते है इसलिए पहले करैक्टर होंगे ICIC
  • पांचवा करैक्टर हमेशा जीरो होता है 0
  • अकाउंट नंबर के पहले के चार करैक्टर ब्रांच कोड पर होते है, हमारे केस में पहले चार करैक्टर है 0045
  • IFSC के लास्ट 6 करैक्टर ब्रांच कोड को रिप्रेजेंट करते है इसलिए वह बनेगे 0000045
  • इस तरह से IFSC कोड बना ICIC0000045

यहाँ इस बात का ध्यान रखे की इस कोड को किसी ट्रांजैक्शन में इस्तेमाल करने से पहले इंटरनेट पर सर्च ले। सर्च करने पर वह बैंक के नाम और ब्रांच सहित सारी जानकारी आपको दे देगा। उसे वेरीफाई करने के बाद ही कही पर IFSC कोड इस्तेमाल करे।

ये भी जाने: Swift code kya hota hai – कहाँ इस्तेमाल होता है और कैसे पता करे

निष्कर्ष – Conclusion

IFSC यानि Indian Financial System Code भारतीय financial सिस्टम का एक अहम् भाग है और रोज़ाना की हो रही सभी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में एक अहम् भूमिका निभाता है। यह यूनिक कोड ट्रांजैक्शन को सिक्योर बनाने के साथ साथ ही पेमेंट को बिना किसी गलती के सही अकाउंट में क्रेडिट करने में मदद करता है। अपने इस आर्टिक्ल के माध्यम से हमने IFSC कोड के बारे में पूरी जानकारी आपको देने की कोशिश की है। आशा है की आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी और अगर इस से जुड़ा कोई और सवाल भी है तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है।

Liked our Content? Spread a word!

Leave a Comment