Algo trading in Hindi – जानिए क्या है एल्गो ट्रेडिंग और कैसे काम करती है

Algo trading in hindi

एल्गो ट्रेडिंग क्या है – Algo trading in Hindi

एल्गो ट्रेडिंग, एल्गोरिथम ट्रेडिंग की शार्ट फॉर्म है। यह ट्रेडिंग का ऐसा तरीका है जिसमे कंप्यूटर सॉफ्टवेयर में algorithm की मदद से इंस्ट्रक्शन फीड करके ट्रेडिंग को किया जाता है। दूसरे शब्दों में कहें तो ट्रेडिंग के इस तरीके में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर में कुछ इंस्ट्रकशन programing द्वारा फीड लिए जाते है जो उसे बताते है की स्टॉक को किस प्राइस पर खरीदना है और किस समय बेचना है। यह हर तरह की एसेट जैसे की स्टॉक, बांड्स, कमोडिटी और करेंसी के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारत में एल्गो ट्रेडिंग पहली बार 2008 में शुरू की गयी थी। शुरूआती दिनों में यह सिर्फ बड़े इंस्टीटूशन, म्यूच्यूअल फण्ड हाउस और बड़े ब्रोकर्स कर तक ही सिमित था लेकिन समय से साथ साथ बढ़ती इसकी पॉपुलैरिटी के कारण इसके दरवाज़े आम ट्रेडर के लिए भी खोल दिए गए।

एल्गो ट्रेडिंग का मुख्य काम ट्रेडिंग को ऑटोमेट करना और बिना किसी इंसानी हस्तक्षेप के ट्रेड को execute करना होता है। दिए गए इंस्ट्रक्शन सेट के जरिये एल्गो सॉफ्टवेयर आर्डर को प्लेस कर सकता है, स्टॉप लोस्स लगा सकता है, मार्किट डाटा तो एनालाइज करने समेत कई सारे काम कर सकता है। इसमें ह्यूमन इमोशंस की कोई जगह नहीं बचती क्युकी सारा काम एक रूल और इंट्रक्शन सेट के अनुसार किया जाता है।

बीते कुछ समय में भारत में एल्गो ट्रेडिंग ने अच्छी खासी पॉपुलैरिटी हासिल कर ली है। यह सेबी द्वारा सेट की गयी guidelines के अनुसार ही काम करती है और बहुत कम समय में काफी सारे ट्रेड execute करने में सक्षम है।

कैसे करे एल्गो ट्रेडिंग – Kaise kare Algo trading

आम ट्रेडिंग के विपरीत एल्गो ट्रेडिंग में buy और selling का काम कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के जरिये किया जाता है जिसे की एक इंस्ट्रक्शन सेट द्वारा प्रोग्राम किया जाता है। इसमें निम्नलिखित स्टेप्स शामिल होते है:

स्ट्रैटर्जी डेवलपमेंट: इंट्राडे ट्रेडर मार्किट में ट्रेड करने के लिए टेक्निकल एनालिसिस का इस्तेमाल करते है और इसी के आधार पर ही एल्गो ट्रेडिंग भी काम करती है। टेक्निकल एनालिसिस में प्राइस की मूवमेंट, इंडिकेटर, सपोर्ट और रेजिस्टेंस, प्राइस पैटर्न्स आदि के आधार पर buy और sell सिगनल जेनेरेट किये जाते है। इन्ही सारे तरीको को स्ट्रैटर्जी में बदला जाता है ताकि वह कोई भी ट्रेडिंग डिसिशन लिया जा सके।

कोडिंग: एक बार स्ट्रैटर्जी डेवेलोप हो जाये तो उसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बदला जाता है ताकि एल्गो सॉफ्टवेयर उसे समझ और execute कर सके। इसके लिए python, c++ जैसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज का इस्तेमाल किया जाता है।

बैकटेसटिंग: बैकटेसटिंग यानि की किसी स्ट्रैटर्जी को असल में ट्रेडिंग में इस्तेमाल करने से पहले स्टॉक के हिस्टोरिक प्राइस मूवमेंट के आधार पर टेस्ट करना। इस से ट्रेडर को स्ट्रैटर्जी के काम करने या ना करने का एक आईडिया हो जाता है।

रिस्क मैनेजमेंट: किसी भी ट्रेड में कदम रखने से पहले उसमे शामिल रिस्क और नुकसान के बारे में जान लेना बहुत जरुरी होता है और यही चीज आपको एक अच्छा ट्रेडर बनने में मदद करती है। एल्गो ट्रेडिंग में स्ट्रैटर्जी के साथ साथ ही स्टॉपलॉस, पोजीशन सिज़िंग और रिस्क कण्ट्रोल करने के लिए भी जरुरी कोड को डेवेलोप और इम्प्लीमेंट किया जाता है।

Executive प्लेटफार्म: एल्गो ट्रेडिंग के प्रोग्राम को रन करने के लिए API औऱ एक अच्छे ट्रेडिंग प्लेटफार्म की जरुरत होती है। API का मतलब होता Application Programming Interface जो की सेबी द्वारा ब्रोकर्स को दिया जाता है। इसके जरिये ब्रोकर रियल टाइम मार्किट डाटा को एक्सेस कर पाते हैं जिसकी जरुरत एल्गो ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर को रन करने के लिए होती है। ब्रोकर्स द्वारा दिए गये ट्रेडिंग प्लेटफार्म पर आप अपनी स्ट्रेटेजी को रन कर एल्गो ट्रेडिंग कर पाते है।

एल्गो ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर – Algo trading software

एल्गो ट्रेडिंग की लोकप्रियता को देखते हुए सेबी ने ब्रोकर्स को यह राइट दिया है की वह अपने API बेस्ड सॉफ्टवेयर जिस पर एल्गो इंस्ट्रक्शन फीड किये जा सकते ट्रेडर्स को ऑफर कर सके। भारत में कई सारे एल्गो ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर उपलभद है जिनमे में कुछ निचे बताये गए है:

Zerodha Streak

Algo Test

Robo Trader

Tradetron Tech

Quantiply

एल्गो ट्रेडिंग के फायदे – Algo trading ke fayde

स्पीड और Accuracy: एल्गो ट्रेडिंग का सबसे बड़ा फायदा इसका बिना किसी गलती के तेजी से ट्रेड को execute करना है। स्टॉक एक्सचेंज में शेयर के प्राइस बहुत तेजी से बदलते है और इसके चलते ट्रेडर अक्सर सही दाम पर किसी ट्रेड में एंट्री नहीं कर पाते। क्युकी एल्गो ट्रेडिंग एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर द्वारा की जाती है इसलिए यह मिलिसेकण्ड में काम करती है जो किसी इंसान के द्वारा संभव नहीं है।

इमोशनलेस ट्रेडिंग: ट्रेडिंग में इंसान अक्सर इमोशंस में आकर गलत ट्रेड ले बैठता है या किसी ट्रेड में गलती कर सकता है लेकिन एल्गो ट्रेडिंग में ऐसा संभव नहीं है। यह सिर्फ दिए गए इंट्रक्शन सेट के आधार पर कोई निर्णय लेता है और गर वह कंडीशन पूरी नहीं होती तो ट्रेड लेने की कोई सम्भावना ही नहीं रहती।

डायवर्सिफिकेशन: एल्गो ट्रेडिंग में कई सारे ट्रेड एक साथ execute किये जा सकते है जो की किसी भी आम ट्रेडर के लिए संभव नहीं है।

Disciplined ट्रेडिंग: एल्गो ट्रेडिंग में ट्रेड तभी execute होता है जब कंप्यूटर प्रोग्राम में दिए गए इंस्ट्रकशन की कंडीशन पूरी होती है। कोई आम ट्रेडर मार्किट फोमो में आकर अपना डिसिप्लिन खो सकता है और ट्रेडिंग में गलती कर अपना नुकसान करवा सकता है लेकिन एल्गो ट्रेडिंग में इसकी सम्भवना ना के बराबर होती है।

बैकटेसटिंग: एल्गो ट्रेडिंग में स्ट्रैटर्जी को असल में इस्तेमाल करने से पहले पुराने डाटाबेस पर बैकटेस्ट की जा सकता है। यह बैकटेसटिंग असल ट्रेडिंग में हमे पैसो का नुक्सान होने से बचा सकती है।

एल्गो ट्रेडिंग के नुकसान – Algo trading ke nuksaan

कम्प्लेक्सिटी: एल्गो ट्रेडिंग को करने के लिए आपको प्रोग्रामिंग और coding की जानकारी होनी चाहिए। अगर आपको इसकी जानकारी नहीं है तो आपको किसी और व्यक्ति को पैसे देके यह काम करवाना पड़ता है और कोई दिक्कत आने के केस में आप खुद कोई एक्शन भी नहीं ले पाते। एल्गो ट्रेडिंग की यह बात इसे आम ट्रेडर के लिए काम्प्लेक्स बनती है।

टेक्निकल खर्चा: एल्गो ट्रेडिंग को करने के लिए आपके पास एक अच्छा सिस्टम और सॉफ्टवेयर होना चाहिए। इसके इलावा मेंटेनन्स, अच्छा इंटरनेट और बैकअप भी आपके ट्रेडिंग कॉस्ट को काफी हद्द तक बड़ा देता है। इसलिए एक छोटे ट्रेडर के लिए एल्गो ट्रेडिंग करना मुश्किल हो जाता है।

फ्लेक्सीबिलटी की कमी: स्टॉक मार्किट हमेशा एक सी नहीं रहती और हमेशा इसका ट्रेंड बदलता रहता है। Trending मार्किट में एल्गो ट्रेडिंग अच्छे से काम करती है लेकिन sideways मार्किट में यह ज्यादा अच्छे ढंग से काम नहीं कर पाती। ऐसे स्तिथि में ट्रेड में बार बार स्टॉपलॉस हिट होने का रिस्क रहता है क्युकी मार्किट का एक क्लियर डायरेक्शन नहीं होता।

टेक्निकल इशू: एल्गो ट्रेडिंग पूरी तरह से computerised सिस्टम पर निर्भर करती है। सिस्टम में किसी तरह की दिक्कत या टेक्निकल इशू आने पर ट्रेड में नुक्सान हो सकता है और कोई अच्छी ट्रेड हाथ से निकल सकती है।

मार्किट पर असर: एल्गो ट्रेडिंग में कई सारे ट्रेड एक साथ execute किये जा सकते है इस कारण मार्किट के ज्यादा volatility और लिक्विडिटी हो सकती है। यह volatility कई ट्रेडर्स के नुक्सान का कारण बन सकती है।

यह भी जानिए: Technical analysis in hindi – टेक्निकल एनालिसिस क्या है क्यों और कैसे सीखें

एल्गो ट्रेडिंग का भविष्य – Algo trading ka bhavishya

जैसी वर्तमान काल में टेक्नोलॉजी की एडवांसमेंट हो रही है एल्गो ट्रेडिंग आने वाले समय में व्यापक तौर पर इस्तेमाल की जा सकती है। नयी टेक्नोलॉजी होने के कारण यह अभी बड़े इंस्टीटूशन और ट्रेडर्स तक की सिमित है क्युकी यह ट्रेडिंग के कॉस्ट काफी हद तक बड़ा देता है। लेकिन यहाँ एक बात ध्यान देने योग्य है की AI की एडवांसमेंट के साथ हमे प्रोग्रामिंग को और किसी अन्य स्किल को सिखने की भी जरुरत नहीं पड़ेगी जिससे भविष्य में किसी और पर निर्भर हुए बिना ही आप अपनी स्ट्रैटर्जी के हिसाब से कोड लिखवा पाएंगे।

इसके इलावा Zerodha Streak जैसे प्लेटफार्म बिना किसी कोडिंग के जानकारी के भी ट्रेडिंग स्ट्रैटर्जी को बनाने और ट्रेडिंग में इस्तेमाल करने की सहूलियत देते है। उम्मीद है की भविष्य में एल्गो ट्रेडिंग की कॉस्ट भी कम होगी और मेरी और आपकी तरह छोटे और आम ट्रेडर भी इसका फायदा ले पाएंगे।

निष्कर्ष – Conclusion

इस बात में कोई शक नहीं है की एल्गो ट्रेडिंग भविष्य में ट्रेडिंग करने के नए तरीके के रूप में सामने आएगा। जहाँ अभी यह कुछ ही लोगो द्वारा ही इस्तेमाल किया जाता है, वह समय दूर नहीं की जब यह सभी ट्रेडर्स द्वारा इस्तेमाल किया जा सकेगा। इस बात को नोट करना भी जरुरी है की एल्गो ट्रेडिंग को लेकर सेबी समय समय पर guidelines के कर आता रहा है और इसका एल्गो ट्रेडिंग भविष्य पर क्या प्रभाव पड़ेगा यह तो वक्त ही बताएगा। आशा है की हमारे इस आर्टिकल ने आपको एल्गो ट्रेडिंग के बारे में पूरी जानकारी दी होगी, लेकिन अगर फिर भी आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है।

Liked our Content? Spread a word!

1 thought on “Algo trading in Hindi – जानिए क्या है एल्गो ट्रेडिंग और कैसे काम करती है”

Leave a Comment