Endowment plan meaning in Hindi – एंडोमेंट प्लान के बारे में पूरी जानकारी

इंश्योरेंस जगत में हमारी financial जरूरतों के हिसाब से कई सारे प्लान और स्कीम्स उप्लभ्द है और एंडोमेंट प्लान्स उन्ही में से एक है। हमारे परिवार के फ्यूचर को सुरक्षित करने में एंडोमेंट प्लान्स एक अहम् भूमिका निभा सकते है। एंडोमेंट प्लान एक स्पेशल तरह के इंश्योरेंस प्रोडक्ट होते है जो की हमे इंश्योरेंस और सेविंग दोनों का फायदा देते है। इस आर्टिकल “Endowment plan meaning in Hindi” में हम एंडोमेंट प्लान के बारे में जानते हुए इस बात पर भी चर्चा करेंगे की यह हमे क्यों लेने चाहिए और इनसे हमे क्या फायदा और नुक्सान है, ताकि आपको एक इन्फोर्मेड financial निर्णय लेने में मदद मिल सके।

Endowment plan meaning in hindi

Table of Contents

एंडोमेंट प्लान क्या होता है – Endowment plan meaning in Hindi

एंडोमेंट पालिसी एक इस तरह का इंश्योरेंस प्लान होता है जिसे लेने वाले को इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट दोनों का लाभ मिलता है। यह प्लान इस तरह से डिज़ाइन किये गए है की यह आपकी इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट दोनों जरूरतों को पूरा करते है। इसके अंतर्गत एक तय टाइम पीरियड तक आपको एक रेगुलर प्रीमियम भरना पड़ता है। अगर आपको पालिसी का समयकाल पूरा होने तक कुछ नहीं होता तो एक फिक्स्ड अमाउंट maturity पर अदा की जाती है जिसका इस्तेमाल आप अपने लॉन्ग टर्म गोल जैसे की बच्चो की शादी, पढ़ाई का खर्च, घर बनाने आदि में कर सकते है।

वहीँ दूसरी तरफ अगर पालिसी टर्म के दौरान पॉलिसी होल्डर की डेथ हो जाती है तो इंश्योरेंस कंपनी एक lumpsum अमाउंट नॉमिनी को भुगतान करती है जैसा की किसी भी लाइफ इंश्योरेंस प्लान में होता है। इस तरह से एक एंडोमेंट प्लान आपको financial प्रोटेक्शन देने के साथ साथ ही आपकी रिटायरमेंट और भविष्य के खर्चो को पूरा करने के लिए सेविंग और इन्वेस्टमेंट का एक अच्छा साधन प्रदान करते है।

एंडोमेंट पालिसी कैसे काम करती है – Endowment policy kaise kaam karti hai

हर इंश्योरेंस पालिसी की तरह एंडोमेंट प्लान में आपको एक तय प्रीमियम राशि को हर महीने, कॉर्टर, हाफ इयरली या इयरली इंश्योरेंस कंपनी को देना करना पड़ता है।

भरे जाने वाले प्रीमियम का कुछ भाग इंश्योरेंस प्लान की खाते में जाता है। अगर किसी केस में इंश्योरेंस होल्डर की मृत्य हो जाती है तो उसके नॉमिनी को एक lumpsum अमाउंट इंश्योरेंस क्लेम के एवज में प्रदान की जाती है।

बाकि का प्रीमियम भाग इन्वेस्टमेंट के हिस्से में जाता है जोकि अलग अलग एसेट जैसे की स्टॉक, बांड, गवर्नमेंट सिक्योरिटी आदि में की जाती है। समय से साथ साथ रिटर्न के मुताबिक इन्वेस्टमेंट की वैल्यू बढ़ती जाती है और पॉलिसीहोल्डर के survival के केस में एक lumpsum अमाउंट maturity पे अदा की जाती है।

एंडोमेंट प्लान में आमतौर पर फ्लेक्सिबल पेमेंट ऑप्शन होती है जिसके अंतर्गत पालिसी लेने वाला व्यक्ति अपनी financial स्तिथि के अनुसार इंश्योरेंस प्रीमियम का चुनाव कर सकता है।

कई सारे एंडोमेंट प्लान के साथ राइडर्स और एडिशनल बेनिफिट की ऑप्शन को ऑफर किया जाता है। इन राइडर्स में क्रिटिकल इलनेस राइडर, disability राइडर, accidental कवरेज राइडर, death बेनेफिट राइडर आदि शामिल हो सकते है।

एंडोमेंट पालिसी के प्रकार – Endowment policy ke prakar

एंडोमेंट पालिसी मुख्यता पांच तरह की होती है और इंश्योरेंस लेने वाला व्यक्ति अपनी जरुरत के हिसाब से किसी भी प्लान का चुनाव कर सकता है। यह पांच किस्मे है:

यूनिट लिंक्ड एंडोमेंट पालिसी – ULIP

इस तरह की एंडोमेंट पालिसी में भरे जाने वाले प्रीमियम दो भागो में विभाजित किया जाता है। पहला भाग इन्वेस्टमेंट फॉर्म में इक्विटी, डेब्ट या हाइब्रिड एसेट में इन्वेस्ट किया जाता है जबकि दूसरा भाग इंश्योरेंस प्रीमियम के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह के प्लान में पॉलिसी होल्डर के पास अपनी इन्वेस्टमेंट एसेट क्लास को चुनने की ऑप्शन होती है। अगर आप हाई रिटर्न चाहते है तो आप इन्वेस्टमेंट पार्ट के लिए इक्विटी क्लास चुन सकते है लेकिन उसमे रिस्क की सम्भावना भी उतनी ही बढ़ जाती है। ऐसे ही कम रिस्क के लिए आप डेब्ट या हाइब्रिड फण्ड का चुनाव कर सकते है। ULIP प्लान में इन्वेस्टमेंट करने से पहले इस बात का ध्यान रहे की यह प्लान 5 साल के लॉक इन पीरियड के साथ आते है यानि की आप किसी भी तरह की अमाउंट, फुल या पार्शियल केवल 5 साल के बाद ही निकलवा सकते है।

गारंटेड एंडोमेंट प्लान – Guaranteed Endowment Plan

इस तरह के प्लान में पॉलिसी होल्डर को एक फिक्स्ड या गारंटेड रिटर्न ऑफर की जाती है। पालिसी के एक्सपायरी होने पर insured व्यक्ति को lumpsum अमाउंट के साथ एडिशनल लॉयल्टी या बोनस जो भी एप्लीकेबल हो साथ में दिया जाता है।

नॉन प्रॉफिट एंडोमेंट प्लान्स – Non-profit Endowment Plan

इस तरह के एंडोमेंट प्लान में किसी भी तरह के बोनस नहीं दिए जाते इसलिए इन्हे नॉन प्रॉफिट प्लान कहा जाता है। इसमें insured व्यक्ति को केवल maturity पे sum assured या डेथ पर क्लेम अमाउंट दी जाती है।

फुल या विथ प्रॉफिट एंडोमेंट प्लान्स – Full/With Profit Endowment Plan

इस तरह की एंडोमेंट पालिसी में पालिसी लेते समय गारंटेड और sum assured अमाउंट का कॉन्ट्रैक्ट तो किया ही जाता है, लेकिन maturity पर यह अमाउंट ज्यादा भी हो सकती है। कई कम्पनिया समय समय पर अपने कस्टमर्स के लिए बोनस की घोषणा करती रहती है। अगर कंपनी इस तरह के बोनस की घोषणा करती है तो इसका भुगतान पॉलिसी होल्डर की मृत्यु पर नॉमिनी को या पालिसी की maturity पे किया जाता है।

लो कॉस्ट एंडोमेंट प्लान – Low-cost Endowment Plan

इस तरह के इंश्योरेंस प्लान उन लोगो के लिए बनाये गए है जो की अपने भविष्य के लिए कुछ पैसो को बचत करना चाहते है। इसमें अमाउंट का भुगतान एक निश्चित समय अवधि के बाद किया जाता है। इस कारण समय के बीतने के साथ ही पॉलिसी होल्डर के नाम पर एक अच्छी रकम जमा हो जाती है जिसका इस्तेमाल किसी तरह के कर्जे के भुगतान या पहले से तय खर्चो की आपूर्ति के लिए किया जा सकता है।

एंडोमेंट इंश्योरेंस किसे लेना चाहिए -Endowment insurance kise lena chahiye

एंडोमेंट प्लान उन लोगो के लिए उपयोगी है जो:

इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट के लिए अलग अलग जगह इन्वेस्ट ना करके एक ही प्लान के द्वारा अपने जरूरतों को पूरा करना चाहते है।

जिनके पास एक रेगुलर इनकम का फ्लो/सोर्स है और कम रिटर्न और कम रिस्क को प्राथमिकता देते है।

ऐसे लोगो जिनके अपने व्यवसाय है, छोटे व्यापारी है या जिनके पास रिटायरमेंट के लिए कोई भी अलग से प्लान नहीं है।

ऐसे लोग जिन्हे एक फिक्स्ड टाइम पीरियड के बाद एक lumpsum अमाउंट की जरुरत पढ़ सकती है।

जो लोग शार्ट टर्म की जगह अपने लॉन्ग टर्म के गोल्स के लिए सेविंग और इन्वेस्टमेंट करना चाहते है।

एंडोमेंट इंश्योरेंस प्लान के फायदे – Endowment insurance plan ke fayde

लाइफ इंश्योरेंस कवर: एंडोमेंट प्लान्स पॉलिसी होल्डर की डेथ के एवज में मुआवजा प्रदान करते हैं यानि अगर पालिसी होल्डर की पालिसी की अवधि के दौरान मौत हो जाती है तो एक lumpsum क्लेम अमाउंट नॉमिनी को दी जाती है। इससे पालिसी होल्डर के अपनों को financial प्रोटेक्शन मिलती है।

सेविंग और इन्वेस्टमेंट: जैसा की पहले भी बताया गया है एंडोमेंट प्लान्स इंश्योरेंस कवरेज के साथ सेविंग या इन्वेस्टमेंट की ऑप्शन भी ऑफर करते है। पालिसी होल्डर द्वारा दी गयी प्रीमियम का एक हिस्सा इंश्योरेंस करने वाली कंपनी द्वारा अलग अलग एसेट में इन्वेस्ट किया जाता है। समय के साथ यह राशि बढ़ती रहती है और maturity पर रिटर्न समेत एक lumpum अमाउंट पॉलिसी होल्डर को अदा की जाती है।

Maturity बेनिफिट: Pure लाइफ इंश्योरेंस के विपरीत एंडोमेंट प्लान्स maturity बेनिफिट प्रदान करते हैं। अगर पालिसी होल्डर पालिसी अवधि पूरी होने तक जीवित रहता है तो उसे पालिसी अवधि के अंत में एक lumpsum अमाउंट प्राप्त होती है जिसका इस्तेमाल शिक्षा या घर खरीदने जैसे अलग अलग financial गोल्स के लिए किया जा सकता है।

टैक्स बेनिफिट: ज्यादातर केस में एंडोमेंट या इंश्योरेंस प्लान के लिए भरा जाने वाला प्रीमियम इनकम टैक्स के सेक्शन 80c के अंतर्गत टैक्स फ्री होता है। आप अपनी ITR को फाइल करने वक्त इस डिडक्शन को क्लेम कर सकते है।

Disciplined सेविंग: समय पर रेगुलर प्रीमियम का भुगतान आपके अंदर सेविंग के लिए डिसिप्लिन लाता है। इस से पॉलिसी होल्डर की लॉन्ग टर्म में वेल्थ बनाने की सम्भावना कई गुना बढ़ जाती है।

एंडोमेंट इंश्योरेंस प्लान के नुक्सान – Endowment insurance plan ke nuksaan

कम रिटर्न्स: एंडोमेंट प्लान की maturity पे मिलने वाली रिटर्न मार्किट स्टैण्डर्ड से कहीं कम हो सकती और केवल उन लोगो के लिए सूटेबल है जो कम रिस्क वाली एसेट में इन्वेस्ट करना चाहते है। इसके विपरीत अगर आप अपने इन्वेस्टमेंट प्लान को अलग रखते हुए म्यूच्यूअल फण्ड, स्टॉक, PPF आदि साधनो में इन्वेस्ट करते है तो मिलने वाली रिटर्न कहीं ज्यादा हो सकती है। लेकिन इस बात का भी ध्यान रहे की हाई रिटर्न के साथ हाई रिस्क का भी फैक्टर रहता है।

हाई प्रीमियम: Pure इंश्योरेंस प्लान की मुकाबले एंडोमेंट प्लान के प्रीमियम काफी ज्यादा हो सकते है। इसलिए यह लोअर और मिडिल क्लास वर्ग के लोगो के लिए उपयुक्त नहीं है।

लॉक इन पीरियड: एंडोमेंट प्लान आमतौर पर कुछ सालो का लॉक इन पीरियड के साथ आते जिनके दौरान पालिसी की रकम को निकलवाया नहीं जा सकता। अगर आप कुछ पैसे निकवाने भी चाहे तो आपको पेनल्टी भरनी पड़ सकती है।

काम्प्लेक्स: आम लोगो के लिए लिए एंडोमेंट प्लान को समझना काफी confusing हो सकता है। कई सारे फीचर होने के कारण लोग इसकी टर्म और कंडीशंस को अच्छे नहीं समझ पाते और इसी कारण उनका इंश्योरेंस कंपनी के साथ मतभेद हो सकता है।

एंडोमेंट पालिसी खरीदते समय किन बातो का ध्यान रखे – Endowment policy kharidte samay kin baato ka dhyan rakhe

प्रीमियम अमाउंट: एंडोमेंट प्लान लम्बी अवधि के लिए होते है जो की कम से कम दस साल का तो होता ही है। एंडोमेंट प्लान की प्रीमियम भी आम लाइफ इंश्योरेंस पालिसी के मुकाबले ज्यादा होते है इसलिए हमे लॉन्ग टर्म थिंकिंग को अपनाते हुए अपनी financial स्तिथि को ध्यान में रखकर प्रीमियम या पालिसी का चुनाव करना चाहिए।

राइडर्स की सिलेक्शन: एंडोमेंट हेल्थ इंश्योरेंस पालिसी के साथ कई सारे एडिशनल राइडर्स लेने की ऑप्शन होती है। इनमे से कुछ इंश्योरेंस पालिसी के साथ मिलते है जबकि कुछ हमे अलग से लेने पड़ते है। अक्सर इंश्योरेंस एजेंट इंश्योरेंस पालिसी के साथ ज्यादा से ज्यादा राइडर जुड़वाने की कोशिश करते है। जिस से प्रीमियम की अमाउंट में इजाफा होता है। पालिसी लेने वाले को चाहिए की वह सोच समझकर अपनी जरुरत के अनुसार ही राइडर का चुनाव करे।

रिटर्न: एंडोमेंट पालिसी में लाइफ इंश्योरेंस के साथ maturity बेनिफिट भी दिया जाता है। प्लान में ऑफर की जाने वाली रिटर्न गारंटेड और नॉन गारंटेड दोनों तरह की हो सकती है। गारंटेड प्लान में सिर्फ एक फिक्स्ड रिटर्न ऑफर की जाती है जबकि नॉन गारंटेड प्लान की रिटर्न कई फैक्टर्स जैसे की बोनस और एडिशनल बेनिफिट्स के कारण अलग हो सकती है। इसलिए पालिसी के चुनाव करते समय maturity अमाउंट पर मिलने वाली रिटर्न पर भी ध्यान दे।

फ्लेक्सिबल प्रीमियम: एंडोमेंट प्लान में आप फ्लेक्सिबल प्रीमियम यानि की एक ही बार लाइफ इंश्योरेंस का प्रीमियम भरने या फिर रेगुलर जोकि मंथली, क्वाटर्ली आदि देय होती है को चुन सकते है। आप अपनी इनकम के साधन और प्रोफेशन के हिसाब से उचित ऑप्शन का चुनाव कर सकते है।

क्लेम सेटलमेंट रेश्यो: इंश्योरेंस पालिसी को लेते वक्त इस रेश्यो को चेक करना सबसे जरुरी है। यह रेश्यो हमे यह बताता है की कंपनी को टोटल मिलने वाले क्लेम से उसने कितने पास किए है और कितने रिजेक्ट। इस से हमे इस बात का अंदाज़ा लग जाता है की पैसो की जरुरत पड़ने पर कंपनी अपने वादे निभाने में कितनी सक्षम है। कंपनी की क्लेम सेटलमेंट रेश्यो जितनी ज्यादा होगी उतना ही हमारे लिए अच्छा होगा। सभी इंश्योरेंस कंपनी के प्लान्स को देखने और उनकी क्लेम सेटलमेंट रेश्यो को जानने के लिए आप ऑनलाइन ब्रोकर्स जैसे की Policybazaar, Insurance dekho आदि की वेबसाइट को चेक कर सकते है।

यह भी जानिए: जानिए टर्म इंश्‍योरेंस क्या है और क्यों जरूरी है?

निष्कर्ष – Conclusion

संक्षेप में यही कहा जा सकता है की एंडोमेंट प्लान एक साथ इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट दोनों के ही फीचर लेके आते है और अधिकतर लोगो की यही दो मुख्य financial जरूरते होती है। लेकिन यहाँ ध्यान देने योग्य बात यह है की यह अपनी वेल्थ को बढ़ाने के एक असरदार तरीका नहीं है। ज्यादा प्रीमियम में आप जितनी अमाउंट को भरेंगे उतनी ही अगर आप किसी और एसेट में इन्वेस्ट करें तो एंडोमेंट प्लान के कई बेहतर रिटर्न पा सकते है। आप लोगो के लिए यह जरुरी है की अपनी जरुरत के हिसाब से सोच समझ कर ही कोई भी इन्वेस्टमेंट निर्णय ले। मेरी राय में तो आपको हमेशा अपने इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट की जरुरत को अलग अलग मैनेज करना चाहिए क्युकी इस से एक तो आपको पैसो की भी बचत होगी और इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न भी अच्छी रहेगी।

Liked our Content? Spread a word!

Leave a Comment